गुजरात के वीर राजपुत – पार्ट 2 Rajputs Of Gujarat

Standard

🔸 गुजरात के वीर राजपुत – पार्ट 2 🔸

image

1 ➡ ठाकोर रणमलजी जाडेजा (खीरसरा) – जुनागढ के नवाब ने खीरसरा पर दो बार हमला किया लेकिन रणमलजी ने उसे हरा दिया, युद्ध की जीत की याद मे जुनागढ की दो तोपे खीरसरा के गुढ मे मोजुद है ||

2 ➡ राणा वाघोजी झाला (कुवा) – मुस्लिम सुल्तान के खिलाफ बगावत करी, सुल्तान ने खलिल खाँ को भेजा लेकिन वाघोजी ने उसे मार भगाया, तब सुल्तान खुद बडी सेना लेकर आया, वाघोजी रण मे वीरगति को प्राप्त हुए और उनकी रानीयां सती हुई ||

3 ➡ राणा श्री विकमातजी || जेठवा (छाया) – खीमोजी के पुत्र विकमातजी द्वितीय ने पोरबंदर को मुगलो से जीत लिया. वहां पर गढ का निर्माण कराया. तब से आज तक पोरबंदर जेठवाओ की गद्दी रही है ||

4 ➡ राव रणमल राठोर (ईडर) – जफर खाँ ने ईडर को जीतने के लिये हमला किया लेकिन राव रणमल ने उसे हरा दिया. श्रीधर व्यासने राव रणमल के युद्ध का वर्णन ‘रणमल छंद’ मे किया है ||

5 ➡ तेजमलजी, सारंगजी, वेजरोजी सोलंकी (कालरी) – सुल्तान अहमदशाह ने कालरी पर आक्रमण किया, काफी दिनो तक घेराबंधी चली, खाद्यसामग्री खत्म होने पर सोलंकीओने शाका किया, सुल्तान की सेना के मोघल अली खान समेत 42 बडे सरदार, 1300 सैनिक और 17 हाथी मारे गये, तेजमलजी, सारंगजी और वेजरोजी वीरगति को प्राप्त हुए ||

6 ➡ ठाकुर सरतानजी वाला (ढांक) – तातरखां घोरी ने ढांक पर हमला किया, सरतानजी ने सामना किया पर संख्या कम होने की वजह से समाधान कर ढांक तातर खां को सोंप ढांक के पीछे पर्वतो मे चले गये, बाद मे चारण आई नागबाई के आशिर्वाद से अपने 500 साथियो के साथ ढांक पर हमला किया और तातर खां और उसकी सेना को भगा दिया, मुस्लिमो की सेना के नगाडे आज भी उस युद्ध याद दिलाते ढांक दरबारगढ मे मोजुद है ||

7 ➡ ठाकोर वखतसिंहजी गोहिल (भावनगर) – भावनगर के पास ही तलाजा पर नुरुदीन का अधिकार था, ठाकोर वखतसिंहजी ने तलाजा पर आक्रमण किया, नुरुदीन की सेना के पास बंदुके थी लेकिन राजपुतो की तलवार के सामने टीक ना सकी, वखतसिंहजी ने खुद अपने हाथो नुरुदीन को मार तलाजा पर कब्जा किया ||

8 ➡ रणमलजी जाडेजा (राजकोट) – राजकोट ठाकोर महेरामनजी को मार कर मासुमखानने राजकोट को ‘मासुमाबाद’ बनाया. महेरामनजी के बडे पुत्र रणमलजी और उनके 6 भाईओने 12 वर्षो बाद मासुमखान को मार राजकोट और सरधार जीत लिया, अपने 6 भाईओ को 6-6 गांव की जागीर सोंप खुद राजकोट गद्दी पर बैठे ||

9 ➡ जेसाजी & वेजाजी सरवैया (अमरेली) – जुनागढ के बादशाह ने जब इनकी जागीरे हडप ली तब बागी बनकर ये बादशाह के गांव और खजाने को लुंटते रहे लेकिन कभी गरीब प्रजा को हेरान नही किया | बगावत से थककर बादशाह ने इनसे समाधान कर लिया और जागीर वापिस दे दी ||

10 ➡ रा’ मांडलिक (जुनागढ) – महंमद बेगडा ने जुनागढ पर आक्रमण कर जीतना चाहा पर कई महिनो तक उपरकोट को जीत नही शका तो वो जुनागढ के गांवो को लुंटने लगा  और प्रजा का कत्लेआम करने लगा, तब रा’ मांडलिक और उनकी राजपुती सेना ने शाका कर बेगडा की सेना पर हमला कर दीया तादाद कम होने की वजह से रा’ मांडलिक ईडर की ओर सहायता प्राप्त करने नीकल गये, बेगडा ने वहा उनका पीछा किया, रा’ मांडलिक और उनके साथी बहादुरी से लडते हुए वीरगति को प्राप्त हुए ||

11 ➡ कनकदास चौहान (चांपानेर) – गुजरात के सुल्तान मुजफ्फर शाह ने चांपानेर पर हमला कर उस पर मुस्लिम सल्तनत स्थापित करने की सोची लेकिन चौहानो की तलवारो ने उसको ऐसा स्वाद चखाया की हार कर लौटते समय ही मुजफ्फर शाह की मृत्यु हो गई ||

12 ➡ विजयदास वाजा (सोमनाथ) – सुल्तान मुजफ्फरशाह ने सोमनाथ को लुंटने के लिये आक्रमण किया लेकिन विजयदास वाजा ने उसका सामना करते हुए उसे वापिस लौटने को मजबुर कर दिया, दो साल बाद सुल्तान बडी सेना लेकर आया, विजयदास ने बडी वीरता से उसका सामना कर वीरगति प्राप्त की ||

👆👆👆👆 ये तो सिर्फ गिने चुने नाम है, ऐसे वीरो के निशान आपको यहां हर कदम, हर गांव मिल जायेगे..

👉 डुप्लीकेटो से निवेदन है की यह सिर्फ और सिर्फ राजपुतो की पोस्ट है, ईसमे दुसरो के नाम एड करके पोस्ट से छेडखानी ना करे…आभार 🙏

History & Literature

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s